2 बार 4 गेंदों में 4 विकेट लेने का अनोखा कारनामा अबतक सिर्फ यही गेंदबाज कर चुका है!


 

दुनिया में ऐसे बहुत कम ही लोग होते हैं जिन्होंने जहां-जहां कदम रखा, वहां कामयाबी के झंड़े गाड़ दिए। यानी ऐसे लोग जिन्होंने कई क्षेत्रों में अपनी प्रतिभा का नजराना पेश किया। ऐसे ही लोगों की बात करें तो एक क्रिकेटर का भी नाम आता है, जिसने हर जगह अपने कौशल से वो कर दिखाया, जो बहुत कम लोग ही कर पाते हैं।

ये हैं दुनिया का सबसे अद्भुत खिलाड़ी

 गेंदबाज

कोलकाता में जन्म लेने वाले बॉब क्रिस्प के नाम कई अद्भूत उपलब्धियां हैं। जो ना केवल एक क्रिकेटर रहे बल्कि साथ ही वो पर्वतारोही और टैंक कमांडर और आखिर में पत्रकार तक बने। ऐसी प्रतिभा की जिस जगह कामयाबी हाथ लगी।की दुनिया में वैसे तो इस दिवंगत खिलाड़ी का नाम बहुत कम लोगों ने ही सुना होगा, लेकिन आज हम इस अनोखे और अद्भुत क्रिकेटर से अवगत करवाते हैं, जिसके कारनामें सुन आपको भी यकिन नहीं होगा।

बॉब क्रिस्प ने अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत साल 1929 में की जो 1931 तक रोडेशिया के लिए खेलते रहे। अपनी तेज गेंदबाजी से बॉब ने खूब प्रभाव छोड़ा। साल 1931-32 में वो वेस्टर्न प्रोविंस के लिए खेले। जहां उन्होंने एक ही सीजन में 33 विकेट तो अगले सीजन में 26 विकेट हासिल किए।

2 बार 4 गेंदों में 4 विकेट लेने का अनोखा कारनामा

गेंदबाज

बॉब ने अपना क्रिकेट करियर तो शुरू कर दिया, लेकिन इसके बाद इस दौरान जो काम किए वो उन्हें वाकई में अद्भूत बनाते हैं, जिस पर आपको यकिन करना तक मुश्किल हो जाएगा। क्रिकेट के अलावा भी ऐसे खूब काम रहे जहां बॉब ने अपनी करामात दिखाई।

साल 1935 में बॉब क्रिस्प ने इंटरनेशनल क्रिकेट में कदम रखा जब उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ दक्षिण अफ्रीका के लिए डेब्यू किया। इंटरनेशल क्रिकेट में बॉब ने 9 टेस्ट मैच खेले जिसमें उन्होंने 20 विकेट हासिल किए। 62 प्रथम श्रेणी मैचों में उन्होंने 276 विकेट झटके। 2 बार तो उन्होंने लगातार 4 गेंदों में 4 विकेट लेने का अनोखा कारनामा भी किया है।

गेंदबाज

बॉब ने दूसरे विश्व युद्ध के दौरान भी एक थर्ड रॉयल टैंक रेजीमेंट के कमांडर के रूप में काम किया। इतना ही नहीं युद्ध के दौरान वो कई बार मरते-मरते बचे जो 5 बार घायल भी हुए। लेकिन उससे भी उन्होंने पार पाया। जिसमें एक बार तो उनके सिर पर चोट लगने से इंफेक्शन हो गया।

इसके अलावा बॉब क्रिस्प ने कुछ और भी कमाल किए हैं। जिसमें दुनिया की सबसे ऊंची चोटियों में से एक कही जाने वाली माउंट किलिमंजारों पर भी चढ़ाई की है। एक नहीं बल्कि बॉब ने वहां पर 2 बार एवरेस्ट को फतह किया है। तो इसके बाद वो पत्रकारिता में भी कूदे, जहां विस्डन के लिए लेख लिखे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here